9771935367, 06432-275733
You May Contribute at Deoghar District Relief Fund | A/C No. 39238814977,  SBI, Deoghar  | IFS Code : SBIN0000064
Click Here To Know About Corona Live Status In Jharkhand  | Click Here To Download LockDown Guidelines  | Click Here To Download COVID - 19 पांच की शक्ति
Migrant Information
Jharkhand E-pass

सूचना भवन, देवघर, जिला जनसम्पर्क कार्यालय, दिनांक -14/05/2020

सूचना भवन, देवघर
=================
जिला जनसम्पर्क कार्यालय
====================
प्रेस विज्ञप्ति संख्या-880
दिनांक -14/05/2020
====================
■ फूल और तलियों के साथ ठीक हुए दोनों मरीजों का बढ़ाया गया हौसला....
==================
■ कोरोना महामारी से लड़ने के लिए शारीरिक और मानसिक रूप से हम सभी को होना होगा मजबूतः- उपायुक्त....
==================
■ जिले के चारों संक्रमित मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ्य, मगर आगे हम सभी को और भी सर्तक रहने की आवश्यकताः- उपायुक्त....
==================
■ उप विकास आयुक्त व वरीय अधिकारियों की उपस्थिति में मरीजों को सेनेटाइजड एम्बूलेंस से दी गयी विदाई....
==================

देवघर जिलान्तर्गत कोरोना संक्रमित दोनों मरीजों की तीसरी जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने के पश्चात दूसरी सभी रिपोर्ट भी बिलकुल सामान्य पायी गयी है। इसके उपरांत आज दिनांक 14.05.2020 को दोनों मरीजों को संक्रमण मुक्त होने का प्रमाण पत्र दिया गया। जिसके पश्चात दोनों मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दी गयी, अब ये बिलकुल स्वस्थ हैं, जो कि हम सभी के लिए एक राहत महसूस करने वाली बात है।

इस मौके पर उप विकास आयुक्त श्री शैलेंद्र कुमार लाल, सिविल सर्जन, श्री विजय कुमार व वरीय अधिकारियों द्वारा ताली बजाकर मरीजों की हौसला अफजाई करते हुए विदाई दी गयी। साथ ही चिकित्सकों और स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा दोनों मरीजों को पुष्प गुच्छ देकर अस्पताल से गंतव्य स्थान तक सेनेटाइजड एम्बूलेंस के द्वारा उनके घर तक पहुंचाया गया।

■ जागरूकता, सर्तकता और सावधानी हीं कोरोना से बचाव की कड़ीः उपायुक्त....
उपायुक्त सह जिला दण्डाधिकारी श्रीमती नैन्सी सहाय द्वारा जानकारी दी गयी कि पिछले दिनों इन दोनों मरीजों की रिपोर्ट पोजेटिव प्राप्त हुई थी। इलाज के क्रम में पहली रिपोर्ट नेगेटिव आने के उपरान्त एहितयात और सुरक्षा के तौर पर मरीजों के सैंपल को दूसरी बार जांच के लिए भेजा गया था, जिसमें इनका रिपोर्ट दूबारा नेगेटिव आया है एवं ये पूर्णतः स्वस्थ पाए गए।

इसके अलावे सबसे महत्वपूर्ण और हम सभी के लिए ये खुशी की बात है कि ये दोनों मरीज कोरोना नामक इस जंग का डट कर सामना करते हुए इस पर जीत हासिल की है और आज वे बिलकुल स्वस्थ व सुरक्षित हैं। पूर्व में भी इसी प्रकार संक्रमित पाये गये अन्य दो मरीज भी कोरोना नामक इस महामारी को हराकर स्वास्थ्य हुए थें। ऐसे में वर्तमान में हम सभी को और भी सर्तक व सावधान रहने की जरूरत है। इसके अलावे समाजिक दूरी, साफ-सफाई व मास्क का उपयोग अनिवार्य रूप से करते हुए औरों को भी ऐसा करने के लिए जागरूक करें।

■ डिस्चार्ज होने के बाद दोनों मरीजों ने चिकित्सकों की टीम को कहा धन्यवाद....
अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद दोनों मरीजो ने बताया कि अस्पताल में उनका अच्छी तरह से ख्याल रखा गया। अच्छे खाने के साथ अच्छा व्यवहार भी किया गया। आज ठीक होने के बाद हमलोग यह कह सकते है कि कोरोना संक्रमण को हराया जा सकता है, जैसा हमने हराया है। बस हिम्मत बनाये रखे, डाॅक्टरों के निर्देशों का पालन करें। इसके अलावे इससे बचने के लिये लोगो को सरकार के आदेशों का पालन करते हुए अपने घरों में ही रहे तभी आप कोरोना जैसी भयानक बीमारी से बच सकते है।

■ सभी चिकित्सक और स्वास्थ्यकर्मियों की टीम का धन्यवाद- उपायुक्त....
उपायुक्त श्रीमती नैंसी सहाय ने सिविल सर्जन श्री विजय कुमार, माँ ललिता हॉस्पिटल के प्रबंधक, चिकित्सकों की टीम के साथ सभी स्वास्थ्यकर्मियों की हौसला अफजायी करते हुए आभार प्रकट किया। साथ ही कोरोना के इस जंग में प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से कार्य कर रहे सभी कोरोनो वारियर्स का धन्यवाद और अभिनन्दन किया गया।

■ सामाजिक दूरी और साफ-सफाई के साथ मास्क का उपयोग करें अनिवार्य रूप से- उपायुक्त....
उपायुक्त श्रीमती नैन्सी सहाय ने कहा कि कोरोना संक्रमित इन मरीजों के रिपोर्ट निगेटिव आ जाने के पश्चात हम सभी को यह नहीं सोचना चाहिए कि अब हमे डरने की कोई आवश्यकता नहीं है। बल्कि हमें अब पहले से अधिक और भी सर्तक व सजग रहने की जरूरत है क्योंकि अभी वर्तमान स्थिति को देखते हुए यह नहीं कहा जा सकता है कि आगे क्या होगा। हम सभी को आगे भी इसी प्रकार सर्तक व सजग रहते हुए समाजिक दूरी का पालन करना है एवं स्वास्थ्य सुरक्षा के दृष्टिकोण से उन सभी उपायों को अपनाना है, जिससे हम अपना व अपने समाज का कोरोना वायरस से बचाव कर सकते हैं। उन्होंने आगे कहा कि आगामी दिनों में भी हमें अपने दिनचर्या में मास्क पहनने की आदत व साफ-सफाई को अहम स्थान देना होगा, तभी जाकर हम इस महामारी से स्वयं को सुरक्षित रख सकते है।

==================
#StayHomeStaySafe
#CleanDeogharGreenDeoghar
==================
#TeamPRD(Deoghar)


सूचना भवन, देवघर
=================
जिला जनसम्पर्क कार्यालय
====================
प्रेस विज्ञप्ति संख्या-882
दिनांक -14/05/2020
====================
■ उपायुक्त व पुलिस अधीक्षक ने कोयम्बटुर से आये 1464 प्रवासी श्रमिकों का जसीडीह रेलवे स्टेशन पर किया स्वागत....
==================
■ होम क्वारंटाइन नियमों के साथ चिकित्सकों की सलाह का अक्षरशः करें पालनः उपायुक्त....
==================
■ थर्मल स्कैनिंग के पश्चात सेटेनाइजड बस से श्रमिकों को भेजा गया अपने गृह जिला की ओर....
==================
■ बाहर से आये श्रमिकों व उनके परिजनों के लिए स्टेशन परिसर में ही फूड पैकेट व पेयजल की थी व्यवस्था.....
==================

केंद्र और राज्य सरकार के पहल के पश्चात लॉक डाउन के वजह से कोयम्बटुर में फंसे झारखण्ड के विभिन्न जिलों के 1464 मजदूर आज स्पेशल ट्रैन के माध्यम से कोयम्बटुर से जसीडीह स्टेशन पहुंचे। इस दौरान उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी श्रीमती नैंन्सी सहाय, पुलिस अधीक्षक श्री पीयूष पांडे एवं वरीय अधिकारियों के द्वारा सभी श्रमिकों व उनके परिजनों का अभिनंदन किया गया एवं उनके सकुशल घर वापसी हेतु ढेरों शुभकामनाएं दी गयी। तत्पश्चात कोयम्बटुर से यहां आने वाले सभी मजदूरों को सर्वप्रथम ट्रैन से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए उतारा गया एवं स्टेशन परिसर में स्वास्थ्य परीक्षण हेतु बने काउंटर में उनका थर्मल स्कैनिंग व स्वास्थ्य जांच संबंधी अन्य सभी प्रक्रिया पूरी की गई। ज्ञात हो कि कोयम्बटुर से बोकारो के 63, चतरा के 29, देवघर के 118, धनबाद के 214, दुमका के 18, पूर्वी सिंहभूम के 66, गढ़वा के 37, गिरीडीह के 144, गोड्डा के 49, गुमला के 53, हजारीबाग के 24, जामताड़ा के 59, खूंटी के 2, कोडरमा के 17, लातेहार के 20, लोहरदगा के 107, पाकुड़ के 13, पलामू के 48, रामगढ़ के 181, रांची के 59, सरायकेला खरसवा के 1, सिमडेगा के 29, प0 सिंहभूम के 113 प्रवासी श्रमिकों का जसीडीह रेलवे स्टेशन पर स्वास्थ्य जांच कर स्वागत किया गया।

इस दौरान उपायुक्त श्रीमती नैंसी सहाय व पुलिस अधीक्षक श्री पीयूष पांडे द्वारा कोयम्बटुर से आने वाले सभी मजदूरों के बीच नास्ता, पानी का वितरण करते हुए सभी को 14 दिनों तक होम क्वारंटाइन का अक्षरशः पालन करने का निर्देश दिया गया। इसके अलावे उपायुक्त ने आगे कहा कि मास्क का उपयोग कर व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर हीं हम इस कोरोना नामक महामारी को हराकर इस पर जीत हासिल कर सकते है। इसलिए आवश्यक है कि हम सभी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन एवं चिकित्सकों द्वारा दिए गए चिकित्सकीय परामर्श का अक्षरशः पालन करें एवं स्वस्थ व सुरक्षित रहें।

■ जिले के सभी 118 श्रमिकों को किया जायेगा होम क्वारंटाइन:- उपायुक्त....
इसके अलावे उपायुक्त श्रीमती नैंसी सहाय द्वारा जानकारी दी गई कि कोयम्बटुर से यहां आने वाले सभी मजदूरों एवं यहां के लोगों के स्वास्थ्य सुरक्षा के दृष्टिकोण से जिला प्रशासन द्वारा सभी एहतियाती उपाय अपनाये गए हैं। इसलिए किसी भी व्यक्ति को घबराने या पैनिक होने की कोई आवश्यकता नहीं है। सुरक्षा के दृष्टिकोण से आने वाले सभी मजदूरों को उनके गंतव्य स्थान तक भेजने हेतु प्रयोग किये जाने वाले बसों को पूर्णतः सेनेटाइजड कर सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा गया है।

■ सुरक्षा के दृष्टिकोण से रेलवे स्टेशन पर एहतियातन उठाये गए हैं सभी कदम....
श्रमिकों के आगमन को लेकर जसीडीह रेलवे स्टेशन परिसर को पूर्ण रूप से सैनेटाइजड किया गया है एवं सोशल डिस्टेंसिंग के पालन हेतु वैरिकेडिंग कर जगह-जगह पर गोल घेरा का निर्माण कराया गया है। इसके अलावे सुरक्षित व्यवस्था व विधि-व्यवस्था संधारण हेतु जसीडीह स्टेशन परिसर में पर्याप्त संख्या में चिकित्सकों की टीम के साथ दण्डाधिकारी एवं सुरक्षाकर्मियों की तैनात पूर्व से ही कि गई थी।

■ व्यवस्थित रूप से श्रमिकों को सेनेटाइजेड बस से भेजा गया अपने-अपने गृह जिला की ओर....
श्रमिकों के आने के पश्चात सर्वप्रथम स्वास्थ्य जांच के उपरांत सभी के लिए फूड पैकेट व पेयजल की व्यवस्था रेलवे स्टेशन पर ही कि गई थी। जिसके उपरांत स्टेशन परिसर से अपने-अपने जिलों के लिए निर्धारित सेनेटाइजेड बसों में बिठाकर मजदूरों को घर के लिए रवाना किया गया। इससे पहले सभी प्रवासी श्रमिकों को भोजन का पैकेट, पानी का बोतल उपलब्ध कराया गया।

इस मौके पर उपरोक्त के अलावे उप विकास आयुक्त श्री शैलेंद्र कुमार लाल, रेलवे के अधिकारी, अनुमंडल पदाधिकारी, देवघर श्री विशाल सागर, प्रशिक्षु आई.ए.एस श्री रवि आनंद, जिला परिवहन पदाधिकारी, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी, जिला आपूर्ति पदाधिकारी, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी, देवघर, अंचलाधिकारी, देवघर सहित विभिन्न अधिकारी, कर्मी आदि उपस्थित थें।

==================
#StayHomeStaySafe
#CleanDeogharGreenDeoghar
==================
#TeamPRD(Deoghar)


सूचना भवन, देवघर
=================
जिला जनसम्पर्क कार्यालय
====================
प्रेस विज्ञप्ति संख्या-883
दिनांक -14/05/2020
====================
■ कोरोना वारियर्स की एक मजबूत कड़ी है सखी मंडल की महिलाएं:- उपायुक्त....
==================
■ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर अपने खेतों में काम कर रही हैं महिला कृषक....
==================
■ सखी मंडल की सक्रिय महिलाओं द्वारा ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने व कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव की दी जा रही है जानकारी....
==================

वर्तमान में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव एवं इसके रोकथाम हेतु समाजिक दूरी बनाये रखने को लेकर जिला प्रशासन द्वारा लगातार कार्य किया जा रहे है। साथ हीं लोगों को जागरूक किया जा रहा है कि वे घर में हीं रहकर स्वयं को व अपने परिवार को सुरक्षित रखें एवं अत्यंत आवश्यक कार्य होने पर हीं अपने घरों से बाहर निकलें व सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए कार्य करें।

इसी कड़ी में देखा जा रहा है कि ग्रामीण क्षेत्र की महिलायें जागरूक हो कर अपने स्वास्थ्य का समुचित ध्यान रख रही हैं एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर अपने खेतों में काम कर रही हैं। सिर्फ इतना हीं नहीं उनके द्वारा कृषि संबंधी कार्यों को करते समय नाक-मुँह को ढँकने हेतु मास्क, रुमाल अथवा साफ सूती कपड़े का प्रयोग किया जा रहा है एवं थोड़े-थोड़े समय पर हाथों को साबुन और पानी से धोया जा रहा है। इसके अलावा पानी भरने हेतु उनके द्वारा चापाकल के समीप गोल घेरा का निर्माण किया गया है, ताकि पानी भरते समय वे एक दूसरे से समुचित दूरी पर खड़ा रहकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर सकें। सिर्फ इतना हीं नहीं ये सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रोजमर्रा के अन्य कार्य भी कर रही हैं एवं दूसरों को भी ऐसा करने हेतु प्रेरित कर रही है, ताकि लोग सजग व सतर्क रहते हुए कोरोना वायरस के संक्रमण से अपना व अपने परिवार का बचाव कर सकें।

ज्ञातव्य है कि वर्तमान में कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए इसके संक्रमण व फैलाव की संभावना से इन्कार नहीं किया जा सकता है। ऐसे में कोरोना वायरस के फैलते संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम हेतु लॉक डाउन के बाबजूद लोगों को स्वयं से सतर्क व सजग रहने की आवश्यकता है, परंतु जीवन निर्वाह के लिए आवश्यक रोजमर्रा के दैनिक कार्यों हेतु भी कभी-कभी लोगों को घर से बाहर निकलना पड़ रहा है, खासकर अभी खेती-बाड़ी का समय होने के कारण ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को घर से बाहर निकल कर खेतों में जाकर कृषि संबंधी आवश्यक कार्य करने पड़ रहे हैं। ऐसे में लोगों के एक-दूसरे के सम्पर्क में आने की संभावना बन जाती है। परन्तु स्वास्थ्य सुरक्षा के दृष्टिकोण से ग्रामीणों द्वारा एक- दूसरे के बीच सामाजिक दूरी बनाते हुए खेती-बाड़ी व रोजमर्रा के अन्य कार्य किये जा रहे हैं, जो कि वास्तव में सराहनीय है। सिर्फ इतना हीं इन महिलाओं द्वारा स्वयं तो विभिन्न स्वास्थ्य सुरक्षा उपाय अपनाते हुए सोशल डिस्टेंस का पालन किया जा रहा हीं है साथ हीं दूसरे को भी ऐसा करने हेतु प्रेरित किया जा रहा है। इसके अलावा इन महिलाओं द्वारा कोरोना वायरस से बचाव एवं सुरक्षा के विभिन्न तरीकों/ नियमों इत्यादि को पट्टियों पर लिखकर गांव के खेतों और मेड़ों पर जगह-जगह लगाया गया है। साथ ही गांव से गुजरते वक्त यह महिलाएं इन नियमों के बारे में ग्रामीणों को भी जानकारी दे रही हैं, जिससे गांव का हर व्यक्ति जागरूक एवं सतर्क रहे।

==================
#VisitDeoghar
#CleanDeogharGreenDeoghar
==================
#TeamPRD(Deoghar)


सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय रांची
विज्ञप्ति संख्या- 297/2020
14 मई 2020
झारखण्ड मंत्रालय, रांची
=======================
◆राज्य सरकार द्वारा अबतक 60 हजार से अधिक लोगों वापस लाया गया- अमरेंद्र प्रताप सिंह
◆बस के माध्यम से लगभग 30 हजार लोग राज्य में वापस आये- के रवि कुमार
◆कंटेनमेंट जोन में सभी लोग होम क्वॉरेंटाइन में ही रहेंगे-अमिताभ कौशल
◆रेड जोन से आने वाले लोगों को सरकारी क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखा जाएगा-नितिन मदन कुलकर्णी
==========================

राँची। झारखंड के कोरोना संबंधित मामलों के मुख्य नोडल पदाधिकारी श्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि राज्य में प्रवासी मजदूरों का आवागमन सरकार द्वारा कराया जा रहा है। जिसके लिए सरकार अन्य राज्यों एवं केंद्र सरकार से समन्वय स्थापित कर ट्रेन के माध्यम से प्रवासी मजदूरों की वापसी करा रही है। वहीं सभी जिलों के उपायुक्त द्वारा बस के माध्यम से प्रवासी मजदूरों को वापस लाने का कार्य किया जा रहा है। अभी तक राज्य में 60 हजार से अधिक लोग वापस आ चुके हैं । इन सभी कार्यों में भारत सरकार द्वारा जारी किए गए सभी प्रोटोकॉल्स को फॉलो किया जा रहा है । वे आज झारखंड राज्य में कोरोना से बचाव और लॉक डाउन के दौरान राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे कार्यों को प्रोजेक्ट भवन में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में मीडिया के लोगों से साझा कर रहे थे।

44 ट्रेनें विभिन्न राज्यों से झारखंड आई है और 56 ट्रेन आगे के लिए शेड्यूल्ड
राज्य स्तरीय यातायात सचिव श्री के रवि कुमार ने कहा कि अभी तक बस के माध्यम से लगभग 30 हजार लोग राज्य में वापस आ चुके हैं। वहीं 44 ट्रेनें विभिन्न राज्यों से झारखंड आई है और 56 ट्रेन आगे के लिए शेड्यूल्ड है। अभी तक 50,028 प्रवासी मजदूर श्रमिक एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन के माध्यम से राज्य में वापस आ चुके हैं। राज्य में निजी वाहनों से भी आवागमन के लिए पास निर्गत किया जा रहा है। अभी तक कुल 1,04,403 आवेदन प्राप्त हुए जिनमें से 95% आवेदनों पर विचार कर कार्रवाई की गई है।

लोग जागरूक बनें और कोरोना से बचाव के लिए जारी सरकार के गाइडलाइंस का पालन करें
आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव श्री अमिताभ कौशल ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा जारी किए गए निदेश के बाद कई राज्यो से लोगों की वापसी हो रही है । काफी संख्या में प्रवासी मजदूर अपने घर वापस आ रहे हैं इस संदर्भ में सभी को ग्रास रूट लेवल पर कार्य करना होगा। लोगों को जागरूक करना होगा कि वे खुद ही कोरोना से बचाव के लिए जारी सरकार के गाइडलाइंस का पालन करें। इस हेतु ग्राम प्रमुख, मुखिया,आंगनवाड़ी सेविका, सहिया, चौकीदार, स्कूल कमिटी, शिक्षक आदि को घर घर तक जानकारी पहुंचाने और उन्हें कोरोना वायरस से बचाव के क्रम मे कैसे रहना है इस ओर प्रेरित करने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कंटेनमेंट जोन का गाइडलाइन जारी किया गया है । आवश्यकता के अनुसार यहां बैरिकेटिंग भी की जा रही है। उन्होंने कहा कि जितने भी घर कंटेनमेंट जोन में है वहां के सभी लोग होम क्वॉरेंटाइन में ही रहेंगे। कंटेनमेंट जोन के लिए कंट्रोल रूम का भी संचालन किया जा रहा है। झारखंड के विभिन्न जिलों को लॉक डाउन की वजह से फंसे मजदूरों की सहायता हेतु 16 करोड़ 70 लाख रुपए की अतिरिक्त राशि वितरित की गई है। जिससे वह झारखंड में फंसे मजदूरों को क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखने में खर्च करेंगे। क्वॉरेंटाइन सेंटर में रह रहे लोगों को स्पेशल पैकेट दिया जा रहा है जिसमें 10 किलो चावल ,1किलो अरहर दाल 1 किलो चना दाल, 1 पैकेट तेल और 1 किलो नमक दिया जा रहा है।

राज्य में अभी 190 लोग कोविड-19 के टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए
स्वास्थ्य विभाग के सचिव डॉ. नितिन मदन कुलकर्णी ने कहा कि देश के विभिन्न राज्यों में 25 रेड जोन चिन्हित किए गए हैं जहां से आने वाले लोगों को सरकारी क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखा जाएगा । उनकी जांच के उपरांत ही उन्हें होम क्वॉरेंटाइन किया जाएगा । उन्होंने बताया कि राज्य में अभीतक 190 लोग कोविड-19 के टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए हैं जिसमें 87 लोग ठीक होकर डिस्चार्ज किए जा चुके हैं, 3 की मृत्यु हो गई है । राज्य में अभी कुल 90 एक्टिव केस है। राज्य में अभी मृत्यु दर 1.66% है। उन्होंने कहा कि राज्य में टेस्टिंग के लिए उपकरण लगाए जा रहे हैं। जिससे टेस्टिंग अधिक से अधिक हो सके। उन्होंने कहा कि राज्य में 63 कंटेनमेंट जोन है जिसमें 1,04,517 लोग रह रहें हैं। राज्य में 8 दिन में अन्य राज्यों से वपस आने वाले 64 प्रवासी कोरोना पॉजिटिव पाए गए। जिसमें सबसे अधिक सूरत, हैदराबाद और मुंबई से आए लोग हैं। राज्य के 9 जिलों में अभी तक एक भी कोरोना पॉजिटिव नहीं मिले हैं। वहीं रांची और गढ़वा में 10 से अधिक कोरोना पॉजिटिव मरीज हैं। सरकार द्वारा वैसे लोग जो क्वॉरेंटाइन सेंटर में रह रहे हैं उनके अंदर इम्यूनिटी बूस्टर हेतु उनके खान-पान का विशेष ख्याल रखा जा रहा है।

###
==================
#TeamPRDJharkhand